कृषि

कृषि के क्षेत्र में झारखण्ड  सरकार कई महत्वपूर्ण कार्य किसानो के हित में कर रही है | रांची पठारी क्षेत्र होते हुए भी यहाँ की भूमि कृषि के लिए उपयुक्त है | यहाँ सिचांई के रूप में मुख्य रूप से लोग बारिश पर निर्भर होते है परन्तु कुवां,नदी का  उपयोग किया जाता है |  कृषि को बढ़ावा देने हेतु भी सरकार द्वारा कई कार्यकर्म चलाये जा रहे है |

निचला क्षेत्र धान की खेती के लिए उपयुक्त स्थितियां प्रदान करता है। खेती के लिए उच्च ऊंचाई वाले बगीचे, बाजरा और सब्जी के बगीचे और परिस्थितियां प्रदान करता है। जंगल के कुल क्षेत्र का वन कवर 20.9 9% है। जिले में उगाई जाने वाली मुख्य फसलें चावल और दालें हैं। केवल 8.30 प्रतिशत कृषि उपयोग में सिंचाई सुविधाएं हैं और सिंचाई के मुख्य स्रोत अच्छे और नहर हैं |

जल विज्ञान

किसी भी क्षेत्र का विकास मुख्य रूप से पानी की गुणवत्ता के साथ-साथ भूजल की मात्रा और इसके वितरण पर निर्भर करता है| यह सार्वजनिक स्वास्थ्य इंजीनियरिंग विभाग (पीएचईडी-कवर 50% क्षेत्र) और आरएमसी की ज़िम्मेदारी है| रांची शहर की वर्तमान जल आपूर्ति तीन सतही जल स्रोतों से की जा रही है | अर्थात्: कांके डैम, हटिया डैम, रुक्का डैम की कुल क्षमता 246 एमएलडी है। मौजूदा जल वितरण प्रणाली पुरानी है और नई पाइपलाइनों वाले स्थानों पर पैच की जा रही है। वर्तमान में शहर में केवल 13710 घरेलू कनेक्शन हैं, जो 1,74,750 के कुल अनुमानित घर का केवल 7.8% है। वर्तमान जनसंख्या का कुल जलापूर्ति 65%  है। (आरएमसी और पीएचईडी का अनुमान 80% है)।

वनस्पति और जीव

रांची के कुल क्षेत्रफल का लगभग 29%  क्षेत्र वनों से घिरा हुआ है। यह प्राकृतिक वनस्पति  एवं पर्णपाती वनों से आच्छादित है|यहाँ के वनों में मुख्य रूप से साल वृक्ष पाया जाता है| स्थानीय रूप से माहुआ (मधुका लांगिफोलिया) के रूप में जाना जाने वाला पेड़ मीठे खाद्य फूल पैदा करता है जिसका उपयोग शराब बनाने के लिए किया जाता है|